क्या आप जानते हो की आपकी सोचने की ताकत को ?


में आपको बोलु की क्या आप सोचते हो ? आप बोलोगे हा तो में आपको सोचने के बारे में बताने जा रहा हूं। तो आप पूरा अपना मन लगाकर पड़ता क्युकी एक बार आप समज गए तो आपका सोचने का तरीका बदल जाएगा । हेलो में हूं कमल आज में आपको सोच के बारे में बताने जा रहा हूं। और आप एक बार सोचना सीख गई ना तो आपकी पूरी जिंदगी बदल जाएगी । आपके मन में विचार आया होगा कि हमको सोचना नहीं अता होगा । क्या हम सोचते नहीं होगे ? बात भी सही है सोचना तो अता है मगर सोचने का तरीका नहीं अता। सोचने का तरीका जानने से पहले सोचने से क्या होता है ? ओ जानना जरूरी है तो चलो में आपको बताता हूं ।

 चलो में आपको बताता हूं कि सोचा केसे जाता है । सोचना सबको अता है मगर सोचने तरीका नहीं अता है। सब केसे सोचते है । किसी की एक विचार किभी बारे में अता है । उसके बारे में हम सोचने लग जाते है। उस विचार के साथ कई और विचार आते है । और हमको पता भी नहीं होता है कि हमारे दिमाग में जिनसे विचार आते है। आप ध्यान से समझना कि जब आपके दिमाग में  विचार आपको आपको पता होता है ? आप बोलोगे हा हमको पता होता है । मगर ऐसा नहीं है । जब विचार आते है तब हमरे मन में ही अता है हमारे दिमाग को नहीं पता होता है ।


 आपको लगता होगा कि में किसी बकवास कर रहा हूं । आपको पता है कि हमारे दिमाग में एक दिन में कितने विचार आते हैं। 50से60 हजार विचार आते है। क्या उन सब विचारों पर ध्यान होता है।  विचार आते हैं ओ तो पता होता है मगर उन विचारो पर हमारा ध्यान नहीं होता है। आपको जोभी विचार अता है उन विचारो पी ध्यान देना शिखो । और विचारो पे ध्यान देना शिखे तो आपके विचार धीरे धीरे कम होते जाएंगे । विचारो पे ध्यान देने से विचार केसे कम होते जाएंगे । एक बार आप विचारो पे ध्यान देना शिख गए तो आपको पता चल ले लगेगा की किस विचार को चलने देना चाहिए और किसे नहीं ।

आप विचारो पे ध्यान देना शीख गए तो जोभी सोचो गए वहीं पाओगे । कहा जाता है कि नहीं में मानता हूं कि जैसा हम विचारे गए वेसा हम बन जाएंगे । फिर आपके दिमाग में जोभी वाचर एयगे या फिर हमको जोभी हमको पना है वो हमे मिल जाएगा क्यूंकि हमारे विचार की यही खासियत है । इसीलिए जीस विचार के बारे में हम जितना सोचेंगे वैसा हम बनते जाएंगे ।




दूसरे विचारो को कम करते जाइए और जोभी बनना है या हासिल करना है उसके बारे में सोचते जाए । एक बात का ध्यान रखना कि जोभी आप विचारो उस पर विश्वास होना चाहिए। अगर विश्वास नहीं होगा तो सोचने का कोई मतलब नहीं है

Post a Comment

0 Comments